आँसू! “यीशु रोया” (यूहन्ना 11:35)।

“यीशु रोया” (यूहन्ना 11:35)।

यह अंग्रेजी बाइबिल में सबसे छोटा वचन है। इस वचन में मात्र दो शब्द हैं। परमेश्वर का प्रेम और करुणा उसकी आंखों में आंसू ले आये। परमेश्वर का एक सेवक अक्सर एक गीत गाता था। यह एक दिल को पिघला देने वाला गीत है, जिसकी शुरुआत है “परमेश्वर जो मेरे लिए रोता है वह अच्छा है”।

मसीह की विशेषताओं में से जो दिल को छू जाता है, वह उसकी करुणा है। पवित्रशास्त्र कहता है, “ यहोवा अनुग्रहकारी और धर्मी है; और हमारा परमेश्वर दया करनेवाला है।”(भजन 116: 5)। हम देख सकते हैं कि हर बार जब भी वह कोई चमत्कार करता है, तो उसने उसे करुणा के साथ किया।

हाँ। वह करुणामयी है। जब भी वह कुष्ठरोगियों और बीमार लोगों से मिला, दया से वह भर जाता था। उसे उन लोगों के लिए सहानुभूति होती थी जो बिना चरवाहे की भेड़ों की तरह थे। नाइन की विधवा के बेटे के शव को देखकर वह करुणा से भर गया। उसका प्यार करुणा तक नहीं रुका बल्कि उसने एक चमत्कार भी किया। कई बार, आप भी करुणा दिखाते हैं। जब आपका कोई करीबी मर जाता है, जब दूसरे रोते हैं, तो आपकी आँखों में भी आंसू आ जाते हैं। आप उनके दुःख और रोने में भी हिस्सा बन जाते हैं।

कवि तिरुवल्लुवर अपनी एक कविता में कहते हैं, “क्या कोई बन्धन है जो प्यार को बंद कर सकता है? स्नेह के आँसू उस प्रेम को प्रकाशित करते हैं जो भीतर हैं। ” प्यार के कारण आँसू बहने लगते हैं। यीशु को देखें। वह ईश्वरों का ईश्वर और प्रभुओं का प्रभु है। वह स्वर्ग और पृथ्वी का सृष्टि कर्ता है। जरा सोचिए कि जब उसकी आंखों से आंसू निकलते हैं तो वह कितना करुणामयी होगा।

स्वर्गदूत न तो रोते हैं और न ही आँसू बहाते हैं। यीशु मसीह वह है जिसके पास मनुष्य के समान मांस और लहू है और यह आपको उसे अपने भाई, दोस्त और प्रेमी के रूप में समझने में सहायता करता है। उसने अपने आंसुओं के माध्यम से स्वर्गीय पिता की करुणा को प्रकट किया।

यीशु आपके लिए करुणा के साथ केवल आँसू नहीं बहाता है, बल्कि आपके शरीर के कष्टों और प्रतिकूलताओं को भी अपने ऊपर ले लेता है। जब शाऊल नाम का एक युवा, नये विश्वासियों को परेशान करने गया, तो परमेश्वर ने हस्तक्षेप किया और कहा, “हे शाऊल, हे शाऊल, तू मुझे क्यों सताता है?” देखें! हमारा प्रेमी प्रभु हमारे सभी दुखों और परेशानियों में हिस्सा लेता है। वह कितना दयालु है!

परमेश्वर के प्यारे बच्चों, आप में आंसू बहाने वाली यीशु की करुणा आपके अंदर हो और यह आपको आत्माओं के लिए रोने में मदद करेगा। क्या आप अपने ऊपर मासीह की करुणा उतरने के लिए प्रार्थना करेंगे?

ध्यान करने के लिए: “यीशु ने अपनी देह में रहने के दिनों में ऊंचे शब्द से पुकार-पुकारकर और आंसू बहा-बहाकर उससे जो उसको मृत्यु से बचा सकता था, प्रार्थनाएं और विनती की, और भक्ति के कारण उसकी सुनी गई।” (इब्रानियों 5: 7)।

आज की बाइबिल पढ़ने

सुबह – सभोपदेशक : 10,11,12
संध्या – गलातियों : 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *