Tag Archives: तुझसे मिलूंगा!

तुझसे मिलूंगा! “मैं वहां,तुझ से मिला करूंगा;”(निर्गमन 25:22)।

*तुझसे मिलूंगा!* *”मैं वहां,तुझ से मिला करूंगा;”(निर्गमन 25:22)। *एक लड़का यह सोचता था कि आकाश और पृथ्वी एक अंतराल पर मिलते हैं और वह उस निश्चित स्थान के पास जाना चाहता था। वह स्थान कैसा होगा इसके बारे में कल्पना किया करता था। उसकी सोच थी कि आकाश और पृथ्वी दूर एक स्थान में मिलते …