Tag Archives: कहानी 36: सोने का बछड़ा

सोने का बछड़ा

 सोने का बछड़ा निर्गमन 32:1-35[1]जब लोगों ने देखा कि मूसा को पर्वत से उतरने mr विलम्ब हो रहा है, तब वे हारून के पास इकट्ठे हो कर कहने लगे, अब हमारे लिये देवता बना, jo हमारे आगे आगे चले; क्योंकि उस पुरूष मूसा ko जो हमें मिस्र देश se निकाल ले आया he, हम नहीं …