“मैं बीमार था, और तुमने मेरी सुधि ली” (मत्ती 25:36)।

"मैं बीमार था, और तुमने मेरी सुधि ली" (मत्ती 25:36)।

मैंबीमार था!

“मैं बीमार था, और तुमने मेरी सुधि ली” (मत्ती 25:36)।

अस्पताल के दौरे के दौरान मरीजों से मिलने पर हमारा दिल पिघल जाता है। इसके अलावा, जब कोई मरीज बिना किसी के देखभाल के अनाथ वहां रहते हैं उसे देख दिल टूट जाता है।

कई मरीजों को वहां बिस्तर की सुविधा तक नहीं होती। वे या तो बरामदे में या फर्श पर कहीं पड़े रहते हैं। बिना पर्याप्त भोजन के और बिना किसी देखभालकर्ता के वे वहां संघर्ष करते हैं। यह दयनीय स्थिति वास्तव में दिल पिघलाने वाली होती है।

एक बार, परमेश्वर का एक सेवक तेज बुखार से पीड़ित था। इस बुरे और अस्थिर स्वास्थ्य के बावजूद, उसने एक सम्मेलन में खड़े होकर प्रचार किया। सम्मेलन के अंत में वह गंभीर बुखार को सहन ना करने के कारण बिस्तर में लेट गया। उस समय एक युवक उससे मिलने आया।

युवक ने परमेश्वर के सेवक से कहा, “आप परमेश्वर के सेवक हैं, आप कैसे अस्वस्थता से प्रभावित हो रहे हैं? आपका विश्वास मजबूत नहीं है। परमेश्वर, पवित्र आत्मा और स्वर्गदूत कभी बीमार नहीं होते। दुनिया में बिताए हुए दिनों में, यीशु मसीह कभी बीमार नहीं हुए। जब ऐसा है, तो आप बस इस तरह बिस्तर पर क्यों हैं?” इस प्रकार वह कठोर बातें करता गया।

परमेश्वर के सेवक ने उस युवक से पूछा, “क्या आप नहीं जानते कि यीशु मसीह भी बीमार हुए थे। वह भीअस्वस्थता से जूझे थे। ” इन बातों से उस युवक को गुस्सा आ गया। उसने कड़ाई से कहा कि यीशु कभी बीमार नहीं हुए। परमेश्वर के सेवक ने अपना पवित्र शास्त्र खोला और मत्ती 25:36 मे लिखा वचन पड़ा। क्या यीशु ने यह नहीं कहा कि ‘मैं बीमार था और तुम मुझसे मिलने आए’, उन्होंने पूछा। इससे युवा खामोश हो गया।

पवित्रशास्त्र में, हम कई परमेश्वर के संतों और सेवकों को बीमार पाते हैं। “एलीशा को वह रोग लग गया” (2 राजा 13:14)। “निश्चय ही वह (इपफ्रुदीतुस) बीमार तो हो गया था यहां तक की मरने पर था” (फिलिप्पियों 2:27)। “बैतनिय्याह का लाज़र नामक एक मनुष्य बीमार था” (यूहन्ना 11: 1)। “उन्हीं दिनों में वह (तबिता) बीमार होकर मर गई;” (प्रेरितों के काम 9:37)।

परमेश्वर से प्रेम करने वालों के लिए सभी बातें मिलकर भलाई को उत्पन्न करती हैं। परमेश्वर के बच्चे बीमारी के समय को भी सुखद समय में बदल देते हैं।

परमेश्वर के प्यारे बच्चों, जब आप बीमार हो रहे हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि क्या यह बीमारीआपमें कुछ सुधार करने के लिए आई है (इब्रानियों 12: 6), और खुद का मूल्यांकन करें और जो चीजें गलत हैं उन्हें सही करें और अवांछित चीजों को बाहर निकालें। अगर पता चले कि बीमारी शैतान के कारण है, तो उसका विरोध करें। वह भाग जाएगा।

ध्यान करने के लिए: “तब वह तेरे अन्न जल पर आशीष देगा, और तेरे बीच में से रोग दूर करेगा”(निर्गमन 23:25)।

आज की बाइबिल पढ़ने

सुबह – यशायाह : 50,51,52
संध्या – 1 थिस्सलुनीकियों : 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *