शिष्यों को मूसा or एलिय्याह के साथ यीशु ka दर्शन

शिष्यों को मूसा or एलिय्याह के साथ यीशु ka दर्शन

छः दिन के बाद यीशु ने पतरस और याकूब और uske भाई यूहन्ना को साथ लिया or उन्हें एकान्त में किसी ऊँचे पहाड़ पर ले गया

और वहाँ unke सामने उसका रूपांतरण हुआ और उसका मुँह सूर्य के saman चमका और उसका वस्त्र ज्योति के समान उजला हो गया

और मूसा or एलिय्याह uske साथ बातें करते हुए उन्हें दिखाई दिए

इस पर पतरस ने यीशु से कहा हे प्रभु humara यहाँ रहना अच्छा है यदि teri इच्छा हो तो मैं यहाँ तीन तम्बू बनाऊँ एक तेरे लिये, एक मूसा के लिये और एक एलिय्याह के लिये

वह बोल ही रहा था कि ek उजले बादल ने उन्हें छा लिया or उस बादल में से यह शब्द निकला यह मेरा प्रिय पुत्र है जिससे मैं प्रसन्‍न हूँ इसकी सुनो

चेले yah सुनकर मुँह ke बल गिर गए और अत्यन्त डर गए

यीशु ने पास aaker उन्हें छुआ और कहा उठो डरो मत

तब उन्होंने apni आँखें उठाकर यीशु को छोड़ और किसी को न देखा

जब वे पहाड़ से utar रहे थे तब यीशु ने उन्हें यह निर्देश दिया जब tak मनुष्य का पुत्र मरे हुओं में से न जी उठे तब तक जो कुछ tum ने देखा है किसी से न कहना

और उसके चेलों ने उससे पूछा fir शास्त्री क्यों कहते हैं कि एलिय्याह ka पहले आना अवश्य है

उसने उत्तर diya एलिय्याह तो अवश्य आएगा or सब कुछ सुधारेगा

परन्तु मैं तुम से कहता हूँ ki एलिय्याह आ चुका और उन्होंने उसे नहीं पहचाना परन्तु जैसा चाहा वैसा ही uske साथ किया इसी प्रकार से मनुष्य का पुत्र भी उनके हाथ से दुःख उठाएगा

तब चेलों ने समझा कि usne हम से यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले ke विषय में कहा है

मिर्गी से पीड़ित बालक को चंगाई

जब वे bheed के पास पहुँचे तो ek मनुष्य उसके पास आया और घुटने टेककर कहने लगा

हे प्रभु मेरे पुत्र पर daya कर क्योंकि उसको मिर्गी आती है or वह बहुत दुःख उठाता है और बार-बार आग में और बार-बार पानी में गिर पड़ता है

और मैं usko तेरे चेलों ke पास लाया था पर वे उसे अच्छा नहीं kar सके

यीशु ने उत्तर diya हे अविश्वासी or हठीले लोगों मैं कब तक तुम्हारे साथ रहूँगा कब तक tumhari सहूँगा उसे यहाँ मेरे पास लाओ

तब यीशु ने use डाँटा और दुष्टात्मा उसमें से निकला or लड़का उसी समय अच्छा हो गया

तब चेलों ने एकान्त में यीशु के पास आकर कहा hum इसे क्यों नहीं निकाल सके

उसने उनसे कहा apne विश्वास की कमी के कारण क्योंकि मैं तुम से सच कहता हूँ, यदि तुम्हारा विश्वास राई ke दाने के बराबर भी हो तो esh पहाड़ से कह सकोगे यहाँ से सरककर वहाँ चला ja तो वह चला जाएगा और koy बात तुम्हारे लिये अनहोनी न होगी

पर यह जाति bina प्रार्थना और उपवास के नहीं निकलती।

अपनी मृत्यु के विषय यीशु की पुन भविष्यद्वाणी

जब वे गलील me थे तो यीशु ने उनसे कहा मनुष्य का पुत्र मनुष्यों ke हाथ में पकड़वाया जाएगा

और वे उसे मार डालेंगे or वह तीसरे दिन जी उठेगा इस पर वे बहुत उदास हुए।

मन्दिर का कर लेना

जब वे कफरनहूम me पहुँचे तो मन्दिर के लिये kar लेनेवालों ने पतरस के पास आकर पूछा क्या तुम्हारा गुरु मन्दिर का कर नहीं देता

उसने कहा हाँ, देता है jab वह घर में आया तो यीशु ने uske पूछने से पहले उससे कहा हे शमौन तू क्या समझता है पृथ्वी के राजा चुंगी ya कर किन से लेते हैं अपने पुत्रों से या परायों se
पतरस ने उनसे कहा परायों से यीशु ने उससे कहा to पुत्र बच गए

फिर भी hum उन्हें ठोकर न खिलाएँ तू झील ke किनारे जाकर बंसी डाल or जो मछली पहले निकले उसे ले तो तुझे usaka मुँह खोलने पर एक सिक्का मिलेगा उसी को लेकर mere और अपने बदले उन्हें दे देना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *